Tuesday, December 17, 2019

शिक्षा मनोविज्ञान सिद्धांतो के प्रतिपादक और जनक


यहाँ पर कुछ महत्वपूर्ण सिद्धांतो के प्रतिपादक और जनक के नाम दिए गए है जो मनोविज्ञान की दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है।
1. मनोविज्ञान के जनक = अरस्तू
2. आधुनिक मनोविज्ञान के जनक = विलियम जेम्स
3. प्रकार्यवाद सम्प्रदाय के जनक = विलियम जेम्स
4. आत्म सम्प्रत्यय की अवधारणा = विलियम जेम्स
5. शिक्षा-मनोविज्ञान के जनक = एडवर्ड थार्नडाइक
६• प्रयास एवं त्रुटि सिद्धांत = थार्नडाइक
७• प्रयत्न एवं भूल का सिद्धांत = थार्नडाइक
८•संयोजनवाद का सिद्धांत = थार्नडाइक
९• उद्दीपन-अनुक्रिया का सिद्धांत = थार्नडाइक
१०•S-R थ्योरी के जन्मदाता = थार्नडाइक
११• अधिगम का बन्ध सिद्धांत = थार्नडाइक
१२•संबंधवाद का सिद्धांत = थार्नडाइक
१३•प्रशिक्षण अंतरण का सर्वसम अवयव
का सिद्धांत = थार्नडाइक
१४• बहुखंड या बहुतत्व बुद्धि का सिद्धांत = थार्नडाइक
१५•बिने-साइमन बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक =अल्फ्रेडबिने एवं साइमन
१६•बुद्धि परीक्षणों के जन्मदाता =अल्फ्रेडबिने
१७•एकखंड बुद्धि का सिद्धांत =अल्फ्रेडबिने
१८• दो खंड बुद्धि का सिद्धांत = स्पीयरमैन
१९• तीन खंड बुद्धि का सिद्धांत = स्पीयरमैन
२० सामान्य व विशिष्ट तत्वों के सिद्धांत के प्रतिपादक = स्पीयरमैन
२१•बुद्धि का द्वय शक्ति का सिद्धांत = स्पीयरमैन
२२•त्रि-आयाम बुद्धि का सिद्धांत = गिलफोर्ड
२३•बुद्धि संरचना का सिद्धांत = गिलफोर्ड
२४• समूह खंडबुद्धि का सिद्धांत = थर्स्टन
२५•युग्म तुलनात्मक निर्णय विधि के प्रतिपादक = थर्स्टन
२६• क्रमबद्ध अंतराल विधि के प्रतिपादक = थर्स्टन
२७• समदृष्टि अन्तर विधि के प्रतिपादक = थर्स्टन व चेव
२८• न्यादर्श या प्रतिदर्श(वर्ग घटक) बुद्धि का सिद्धांत = थॉमसन
२९• पदानुक्रमिक(क्रमिक महत्व) बुद्धि का
सिद्धांत = बर्ट एवं वर्नन
३०•तरल-ठोस बुद्धि का सिद्धांत = आर. बी.केटल
३१•प्रतिकारक (विशेषक) सिद्धांत के
प्रतिपादक = आर. बी.केटल
३३• बुद्धि ‘क’ और बुद्धि ‘ख’ का सिद्धांत = हैब
३४• बुद्धि इकाई का सिद्धांत = स्टर्न एवं जॉनसन
३५• बुद्धि लब्धि ज्ञात करने के सुत्र के प्रतिपादक = विलियम स्टर्न
३६•संरचनावाद साम्प्रदाय के जनक = WilhelmMaximilianWundt व् शिष्यटिंचनर(Edward B. Titchener)
३७•प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के जनक = विल्हेम
वुण्ट-1879 में लिपजिग जर्मनी में पहली प्रयोगशाला
३८•विकासात्मक मनोविज्ञान के प्रतिपादक = जीन पियाजे
३९• संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत = जीन पियाजे
४०• मूल प्रवृत्तियों के सिद्धांत के जन्मदाता = विलियम मैक्डूगल
४१• हार्मिक का सिद्धांन्त = विलियम मैक्डूगल
४२•मनोविज्ञान – मन मस्तिष्क का विज्ञान = पोंपोनोजी
४३•क्रिया-प्रसूत अनुबंधन का सिद्धांन्त =B F स्किनर
४४• सक्रिय अनुबंधन का सिद्धांन्त = B F स्किनर
४५• अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत = इवान पेट्रोविच पावलव (I P Pavlov)
४६• संबंध प्रत्यावर्तन का सिद्धांत = I P पावलव
४७• शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत = इवान पेट्रोविच पावलव
४८•प्रतिस्थापक का सिद्धांत = इवान पेट्रोविच पावलव
४९• प्रबलन (पुनर्बलन) का सिद्धांत = सी. एल. हल
५०• व्यवस्थित व्यवहार का सिद्धांत = सी. एल. हल
५१•सबलीकरण का सिद्धांत = सी. एल. हल
५२•संपोषक का सिद्धांत = सी. एल. हल
५३• चालक / अंतर्नोद(प्रणोद) का सिद्धांत = सी. एल. हल
५४• अधिगम का सूक्ष्म सिद्धान्त = कोहलर
५५• सूझ या अन्तर्दृष्टि का सिद्धांत = कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का
५६• गेस्टाल्टवाद सम्प्रदाय के जनक = कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का
५७• क्षेत्रीय सिद्धांत =कुर्त लेविन
५८• तलरूप कासिद्धांत =कुर्त लेविन
५९• समूह गतिशीलतासम्प्रत्यय के प्रतिपादक = कुर्त लेविन
६०•सामीप्य संबंधवाद का सिद्धांत =गुथरी
६१• साईन(चिह्न) का सिद्धांत = टॉलमैन
६२• सम्भावना सिद्धांत के प्रतिपादक = टॉलमैन
६३• अग्रिम संगठकप्रतिमान के प्रतिपादक = डेविड आसुबेल
६४• भाषायीसापेक्षता प्राक्कल्पना के
प्रतिपादक = व्हार्फ
६५• मनोविज्ञान के व्यवहारवादी सम्प्रदाय के जनक = जोहन बी. वाटसन
६६• अधिगम या व्यव्हार सिद्धांत के प्रतिपादक = क्लार्क हल
६७•सामाजिक अधिगम सिद्धांत के प्रतिपादक = अल्बर्ट बण्डूरा
६८• पुनरावृत्ति का सिद्धांत = G स्टेनले हॉल
६९• अधिगम सोपानकी के प्रतिपादक = गेने
७०•मनोसामाजिकविकासकासिद्धांत =एरिकएरिक्सन
७१• प्रोजेक्ट प्रणाली से करके सीखना का सिद्धांत = जान ड्यूवी
७२• अधिगम मनोविज्ञान का जनक =हर्मन इबिन हॉस(Hermann Ebbinghaus )
७३•आधुनिक मनोविज्ञान के प्रथम मनोवैज्ञानिक – डेकार्टे
७४•किन्डरगार्टन विधि के प्रतिपादक = फ्रोबेल
७५•डाल्टन विधि के प्रतिपादक = मिस हेलेन पार्कहर्स्ट
७६•मांटेसरी विधि के प्रतिपादक = मैडम मारिया मांटेसरी
७७•संज्ञानात्मक आन्दोलन के जनक =अल्बर्ट बांडूरा
७८•गेस्टाल्टवाद (1912) = कोहलर, कोफ्का, वर्दीमर व लेविन
७९•संरचनावाद (1879)=विलियम वुंट
८०•व्यवहारवाद (1912) = जे. बी. वाटसन
८१•मनोविश्लेशणवाद (1900) –=सिगमंड फ्रायड
८२•विकासात्मक/संज्ञानात्मक = जीन पियाजे
८३•संरचनात्मक अधिगम की अवधारणा = जेरोम ब्रूनर
८४•सामाजिक अधिगम सिद्धांत (1986) = अल्बर्ट बांडूरा
८५•संबंधवाद (1913) – थार्नडाईक
८६•अनुकूलित अनुक्रिया सिद्धांत (1904) = पावलव्
८७•क्रियाप्रसूत अनुबंधन सिद्धांत (1938) – स्किनर
८८•प्रबलन/पुनर्बलन सिद्धांत (1915) – हल
८९•अन्तर्दृष्टि/सूझ सिद्धांत (1912) - कोहलर
९०• विकास के सामाजिक प्रवर्तक = एरिक्सन
९१•प्रोजेक्ट प्रणाली से करके सीखना का सिद्धांत = जान ड्यूवी
९३• अधिगम मनोविज्ञान का जनक = एविग हास
९४• अधिगम अवस्थाओं के प्रतिपादक = जेरोम ब्रूनर
९५• संरचनात्मक अधिगम का सिद्धांत = जेरोम ब्रूनर
९६• सामान्यीकरण का सिद्धांत = सी. एच. जड
९७• शक्ति मनोविज्ञान का जनक = वॉल्फ
९८•अधिगम अंतरण का मूल्यों के अभिज्ञान का सिद्धांत = बगले
९९• भाषा विकास का सिद्धांत = चोमस्की
१००• माँग-पूर्ति(आवश्यकता पदानुक्रम) कासिद्धांत = मैस्लो (मास्लो)
१०१• स्व-यथार्थीकरण अभिप्रेरणा का सिद्धांत= मैस्लो (मास
१०२• आत्मज्ञान का सिद्धांत = मैस्लो (मास्लो)
१०३• उपलब्धि अभिप्रेरणा का सिद्धांत = डेविड सी.मेक्लिएंड
१०४•प्रोत्साहन का सिद्धांत = बोल्स व काफमैन
१०५• शील गुण(विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक = आलपोर्ट
१०५• व्यक्तित्व मापन का माँग का सिद्धांत = हेनरी मुरे
१०६•कथानक बोध परीक्षण विधि के प्रतिपादक= मोर्गन व मुरे
१०७• प्रासंगिक अन्तर्बोध परीक्षण (T.A.T.) विधि के प्रतिपादक = मोर्गन व मुरे
१०८• बाल -अन्तर्बोध परीक्षण (C.A.T.) विधि के प्रतिपादक = लियोपोल्ड बैलक
१०९• रोर्शा स्याही ध्ब्बा परीक्षण (I.B.T.) विधि के प्रतिपादक = हरमन रोर्शा
११०•वाक्य पूर्ति परीक्षण (S.C.T.) विधि के प्रतिपादक = पाईन व टेंडलर
१११• व्यवहार परीक्षण विधि के प्रतिपादक = मे एवं हार्टशार्न
११२•किंडरगार्टन(बालोद्यान ) विधि के प्रतिपादक = फ्रोबेल
११३•खेल प्रणाली के जन्मदाता = फ्रोबेल
११४•मनोविश्लेषण विधि के जन्मदाता = सिगमंड फ्रायड
११५• स्वप्न विश्लेषण विधि के प्रतिपादक =सिगमंड फ्रायड
११६• प्रोजेक्ट विधि के प्रतिपादक = विलियम हेनरी क्लिपेट्रिक
११७•मापनी भेदक विधि के प्रतिपादक = एडवर्ड्स व क्लिपेट्रिक
११८• डाल्टन विधि की प्रतिपादक = मिस हेलेन पार्कहर्स्ट
११९• मांटेसरी विधि की प्रतिपादक = मेडम मारिया मांटेसरी
१२०•डेक्रोली विधि के प्रतिपादक = ओविड डेक्रोली
१२१•विनेटिका(इकाई) विधि के प्रतिपादक = कार्लटन वाशबर्न
१२२• ह्यूरिस्टिक विधि के प्रतिपादक = एच. ई. आर्मस्ट्रांग
१२३• समाजमिति विधि के प्रतिपादक = जे. एल.\ मोरेनो
१२४• योग निर्धारण विधि के प्रतिपादक = लिकर्ट
१३५• स्केलोग्राम विधि के प्रतिपादक = गटमैन
१३५• विभेद शाब्दिक विधि के प्रतिपादक =आसगुड
१३६• स्वतंत्र शब्द साहचर्य परीक्षण विधि के प्रतिपादक = फ़्रांसिस गाल्टन
१३७•स्टेनफोर्ड- बिने स्केल परीक्षण के प्रतिपादक = टरमन
१३८• पोरटियस भूल-भुलैया परीक्षण के प्रतिपादक = एस.डी. पोरटियस
१३९• वेश्लर-वेल्यूब बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक = डी.वेश्लवर
१४०• आर्मी अल्फा परीक्षण के प्रतिपादक = आर्थर एस. ओटिस
१४१• आर्मी बिटा परीक्षण के प्रतिपादक = आर्थर एस. ओटिस
१४२•हिन्दुस्तानी बिने क्रिया परीक्षण के प्रतिपादक = सी.एच.राइस
१४३•प्राथमिक वर्गीकरण परीक्षण के प्रतिपादक = जे. मनरो
१४४•बाल अपराध विज्ञान का जनक = सीजर लोम्ब्रसो
१४५• वंश सुत्र के नियम के प्रतिपादक = मैंडल
१४६• ब्रेल लिपि के प्रतिपादक = लुई ब्रेल
१४७•साहचर्य सिद्धांत के प्रतिपादक = एलेक्जेंडर बैन
१४८•सीखने के लिए सीखना" सिद्धांत के प्रतिपादक = हर्लो
१४९•शरीर रचना का सिद्धांत = शैल्डन
१५०• व्यक्तित्व मापन के जीव सिद्धांत केप्रतिपादक = गोल्डस्टीन
१५१•अधिगम का सूक्ष्म सिद्धान्त = कोहलर
१५२• क्षेत्रीय सिद्धांत = लेविन
१५३•तलरूप का सिद्धांत = लेविन
१५४•समूह गतिशीलता सम्प्रत्यय के प्रतिपादक = लेविन
१५५•सामीप्य संबंधवाद का सिद्धांत = गुथरी
१५६•साईन(चिह्न) का सिद्धांत = टॉलमैन
१५६• सम्भावना सिद्धांत के प्रतिपादक = टॉलमैन
१५७•अग्रिम संगठक प्रतिमान के प्रतिपादक = डेविड आसुबेल
१५८• भाषायी सापेक्षता प्राक्कल्पना के प्रतिपादक = व्हार्फ
१५९•मनोविज्ञान के व्यवहारवादी सम्प्रदाय के जनक = जोहन बी. वाटसन
१६०• अधिगम या व्यव्हार सिद्धांत के प्रतिपादक = क्लार्क
१६१• सामाजिक अधिगम सिद्धांत के प्रतिपादक = अल्बर्ट बाण्डूरा
१६२• पुनरावृत्ति का सिद्धांत = स्टेनले हॉल
१६३•अधिगम सोपानकी के प्रतिपादक = गेने
१६४• विकास के सामाजिक प्रवर्तक = एरिक्सन
१६५• प्रोजेक्ट प्रणाली से करके सीखना का सिद्धांत = जान ड्यूवी
१६६• अधिगम मनोविज्ञान का जनक = एविग हास
१६७•अधिगम अवस्थाओं के प्रतिपादक= जेरोम ब्रूनर
१६८• संरचनात्मक अधिगम का सिद्धांत = जेरोम ब्रूनर
१६९• सामान्यीकरण का सिद्धांत = सी. एच. जड
१७०• शक्ति मनोविज्ञान का जनक = वॉल्फ
१७१• अधिगम अंतरण का मूल्यों के अभिज्ञान का सिद्धांत = बागले
१७२• भाषा विकास का सिद्धांत = चोमस्की
१७३• माँग-पूर्ति(आवश्यकता पदानुक्रम) का सिद्धांत = मैस्लो (मास्लो)
१७४• स्व-यथार्थीकरण अभिप्रेरणा का सिद्धांत = मैस्लो (मास्लो)
१७५• आत्मज्ञान का सिद्धांत = मैस्लो (मास्लो)
१७६•उपलब्धि अभिप्रेरणा का सिद्धांत = डेविड सी.मेक्लिएंड
१७७• प्रोत्साहन का सिद्धांत = बोल्स व काफमैन
१७८•शील गुण(विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक = आलपोर्ट
१७९• व्यक्तित्व मापन का माँग का सिद्धांत = हेनरी मुरे
१८०• कथानक बोध परीक्षण विधि के प्रतिपादक = मोर्गन व मुरे
१८१• प्रासंगिक अन्तर्बोध परीक्षण (T.A.T.) विधि के प्रतिपादक = मोर्गन व मुरे
१८२•बाल -अन्तर्बोध परीक्षण (C.A.T.) विधि के प्रतिपादक = लियोपोल्ड बैलक
१८३•रोर्शा स्याही ध्ब्बा परीक्षण (I.B.T.) विधि के प्रतिपादक = हरमन रोर्शा
१८४• वाक्य पूर्ति परीक्षण (S.C.T.)विधि के प्रतिपादक = पाईन व टेंडलर
१८५• व्यवहार परीक्षण विधि के प्रतिपादक = मे एवं हार्टशार्न
१८६•किंडरगार्टन(बालोद्यान ) विधि के प्रतिपादक = फ्रोबेल
१८७• खेल प्रणाली के जन्मदाता = फ्रोबेल
१८८मनोविश्लेषण विधि के जन्मदाता = सिगमंड फ्रायड
१८९• स्वप्न विश्लेषण विधि के प्रतिपादक = सिगमंड फ्रायड
१९०•प्रोजेक्ट विधि के प्रतिपादक = विलियम हेनरी क्लिपेट्रिक
१९१• मापनी भेदक विधि के प्रतिपादक = एडवर्ड्स व क्लिपेट्रिक
१९२• डाल्टन विधि की प्रतिपादक = मिस हेलेन पार्कहर्स्ट
१९३• मांटेसरी विधि की प्रतिपादक = मेडम मारिया मांटेसरी
१९४• डेक्रोली विधि के प्रतिपादक= ओविड डेक्रोली
१९५• विनेटिका(इकाई) विधि के प्रतिपादक = कार्लटन वाशबर्न
१९६• ह्यूरिस्टिक विधि के प्रतिपादक = एच. ई. आर्मस्ट्रांग
१९७• समाजमिति विधि के प्रतिपादक = जे. एल. मोरेनो
१९८• स्वतंत्र शब्द साहचर्य परीक्षण विधि के प्रतिपादक = फ़्रांसिस गाल्टन
१९९• स्टेनफोर्ड- बिने स्केल परीक्षण के प्रतिपादक = टरमन
२००• पोरटियस भूल-भुलैया परीक्षण के प्रतिपादक = एस.डी. पोरटियस

Thursday, December 12, 2019

UPTET/ CTET Paper-|| Practice Book PDF Download

UPTET/ CTET Paper-ll Practice Book
UPTET/ CTET Paper-II Practice Book 
यूपीटीईटी / सीटीईटी जूनियर शिक्षक पात्रता परीक्षा की की प्रैक्टिस बुक आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।
UPTET/ CTET Practice Book - Practice With Explanation Download
 ( जूनियर शिक्षक पात्रता परीक्षा )
Publication - Youth Competition Times
Size - 68.6 MB
Pages - 209
PDF - Download

Sunday, December 8, 2019

CTET Questions Paper Download December 2019

सीटीईटी दिसंबर 2019 प्राथमिक और जूनियर स्तर का प्रश्नपत्र आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।
CTET Primary Question Paper December 2019
CTET Primary Question Paper December 2019
CTET Primary Question Paper December 2019 - Download

CTET Upper Primary Questions Paper December 2019
CTET Upper Primary Questions Paper December 2019
CTET UpperPrimary Question Paper December 2019 - Download

CTET UpperPrimary Sanskrit Question Paper December 2019 - Download

Wednesday, November 20, 2019

शिक्षा मनोविज्ञान की महत्वपूर्ण अवधारणायें एवं सिद्धांत पीडीएफ

शिक्षा मनोविज्ञान की महत्वपूर्ण अवधारणायें एवं सिद्धांत पीडीएफ डाऊनलोड
शिक्षा_मनोविज्ञान_की_महत्वपूर्ण_अवधारणायें_एवं_सिद्धांत
शिक्षा मनोविज्ञान की महत्वपूर्ण अवधारणायें एवं उनके सिद्धांत को आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते है।
Size :- 10.1 MB

Sunday, October 20, 2019

GK Trick : वायुमंडल की परतें

GK Trick : वायुमंडल की परतें
GK Trick : वायुमंडल की परतें
    वायुमंडल की सबसे निचली परत क्षोभमंडल हैं। उसके ऊपर के भाग को समतापमंडल और उसके और ऊपर के भाग को हम आयनमंडल कहते हैं। क्षोभमंडल और समतापमंडल के बीच के बीच के भाग को “शांतमंडल” और समतापमंडल और आयनमंडल के बीच को स्ट्रैटोपॉज़ कहते हैं।
इसे आप एक ट्रिक के माध्यम से याद रख सकते है। 

ट्रिक :-  छोड सबको में आया बाहर
छोड–       क्षोभमंडल
सबको–    समताप मंडल
में –         मध्य मंडल
आया–     आयन मंडल
बाहर–      बाह्य मंडल

Thursday, October 17, 2019

UPTET 2019 GO: यूपी टीईटी शासनादेश 2019 - उ0प्र0 शिक्षक पात्रता परीक्षा-2019 के आयोजन हेतु नवीन मार्गदर्शी शासनादेश जारी, देखें

  परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव की ओर से 31 अक्टूबर को यूपीटेट 2019 का विज्ञापन जारी  किया जाएगा 22 दिसंबर को परीक्षा तथा 21 जनवरी 2020 को परीक्षा का परिणाम घोषित किया जाएगा। 1 नवंबर अपराह्न से पंजीकरण शुरू होकर 20 नवंबर तक होंगे तथा शुल्क जमा करने की अंतिम तारीख 21 नवंबर निर्धारित की गई है।
UPTET 2019 GO
यूपीटेट 2019 समय सारणी
यूपीटेट 2019 शासनादेश :- Download

Tuesday, October 8, 2019

UPTET/ CTET/HTET/REET SANSKRIT Previous year Solved Question Paper Pdf

UPTET/ CTET/HTET/REET SANSKRIT Previous year Solved Question Paper
UPTET/ CTET/HTET/REET SANSKRIT Previous year Solved Question Paper
     यूपीटीईटी, सीटीईटी, एचटीईटी और रीट एग्जाम के संस्कृत के पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र हल सहित इस पुस्तक में दिए गए हैं जिसे आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।
UPTET/ CTET/ HTET/ REET  SANSKRIT Previous year Solved Question Paper Pdf
Size - 48.2 MB
Publication - Youth Competition Times
PDF - Download

Thursday, September 26, 2019

CTET/ UPTET बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र प्रश्नकोश पीडीएफ डाउनलोड

CTET_UPTET_बालविकास_एवं_शिक्षाशास्त्र
CTET/ UPTET बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र 
     यूपीटीईटी,सीटीईटी और सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा के लिये बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र की यह पुस्तक अत्यंत महत्वपूर्ण है इस पुस्तक में आपको अध्यायवार प्रश्न दिए गए हैं इस पीडीएफ को आप नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड कर सकते हैं।
Language:- Hindi
Binding:- Paperback
Publisher:- Youth Compitition Times
Size:- 4.4 MB


CTET/ UPTET बालविकास एवं शिक्षाशास्त्र प्रश्नकोश पीडीएफ 
:- Download :-

Wednesday, September 25, 2019

CTET 2019:- आवेदन की अंतिम तारीख पुनः बढ़ी, अब 30 सितंबर तक कर सकेंगे आवेदन

सीटीईटी 2019, केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा  सर्वर बिजी होने के कारण अभ्यार्थियों को असुविधा होने पर सीबीएसई ने सीटीईटी 2019 की आवेदन की तारीख को आगे बढ़ाकर 30 सितंबर 2019 कर दिया है और फीस का भुगतान 3 अक्टूबर 2019 तक किया जा सकता है अगर आवेदक को कुछ सुधार करना है तो 3 अक्टूबर से 10 अक्टूबर के बीच कर सकता है।

CTET 2019:- आवेदन की अंतिम तारीख पुनः बढ़ी, अब 30 सितंबर तक कर सकेंगे आवेदन
CTET 2019:- आवेदन की अंतिम तारीख पुनः बढ़ी, अब 30 सितंबर तक कर सकेंगे आवेदन

Monday, September 23, 2019

Sunday, August 25, 2019

Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana ki Jankari

 हमारा देश एक कृषि प्रधान देश है 9 August 2019 को एक सरकारी योजना शुरू की गयी जो किसानो के लिए है इस योजना का नाम है Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana सरकार की इस योजना से हमारे देश के किसानो को 60 साल की उम्र पार करने के बाद 3000 रूपये प्रति महीने पेंशन देने की व्यवस्था की गई किसान की मृत्यु होने के बाद किसान की पत्नी को 1500 रूपये हर महीने मिलेंगे। 


            इस योजना का पंजीकरण शुरू कर दिया गया है इस योजना में पंजीकरण के लिए आपकी उम्र 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। इस योजना का पंजीकरण नि:शुक्ल है लेकिन इसमें आपको हर महीने एक फिक्स राशि जमा करनी होगी। और यह राशि उम्र के हिसाब से अलग अलग होती है अगर आपकी उम्र 18 से 40 वर्ष के बीच है तो आपको हर महीने 55 रूपये जमा करने होंगे। अगर आपकी उम्र 40 से ऊपर है तो आपको हर महीने 200 रूपये जमा करने होंगे। अगर आप अपनी उम्र के 60 तक इसमें पैसा जमा करते हो तो आपको 60 साल की उम्र के बाद आपकी पेंशन शुरू हो जाएगी और आपको हर महीने 3000 रूपये की राशि मिलेगी। 
                सरकार ने इस योजना से बहार निकलने का विकल्प भी रखा है  यदि कोई किसान बीच में स्कीम छोड़ना चाहता है तो उसका पैसा नहीं डूबेगा उसने स्कीम छोड़ने तक जो पैसे जमा किए होंगे उस पर सेविंग अकाउंट के ब्याज का ब्याज मिलेगा. इस तरह किसी भी किसान के लिए यह स्कीम घाटे का सौदा नहीं है अगर पति पत्नी अलग अलग इस योजना में जुड़ना चाहते है तो ऐसा भी इस Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana में किआ जा सकता है चलिए अब बात कर लेते है कि आखिर इस Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana में पंजीकरण के लिए किस किस डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ेगी, अगर आप इस Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana में जुड़ना चाहते हो तो आपको  किस किस Documents की जरुरत पड़ेगी।
  1. आधार कार्ड 
  2. जमीन की खसरा और खतौनी की नकल 
  3. बैंक अकाउंट 
  4. मोबाइल नंबर जो की आपके आधार कार्ड से लिंक हो और साथ ही बैंक अकाउंट से भी लिंक हो.
Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana में पंजीकरण कराना चाहते है तो इसके लिए आपको अपने नजदीगी CSC Center (सामान्य जनसेवा केन्द्र) जाकर या फिर राज्य के नोडल ऑफिसर के पास जाकर भी इस Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana में अपना Registration कर सकते हो जो कि बिलकुल Free है।
              Pradhan Mantri Kisan Mandhan Yojana से जुडी जानकारी के लिए आप इस नंबर 1800-180-1551 पर कॉल करके भी आप इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हो।

Thursday, August 1, 2019

Download NCERT Science Ebook in Hindi Class 6th to 10th Pdf


Class 6th से Class 10th तक, ये eBooks आपके लिए बेहद उपयोगी होगी, हम यहाँ 10th तक की किताबें उपलब्ध करा रहे हैं, Science के Concepts         बेहतर तरीके. से समझने के लिय आप इन्हें पढ़ सकते है ,  Download करने के लिये समबंधित लिंक पर जायें।

  1. NCERT eBook Science Class6th -  Download
  2. NCERT eBook Science Class8th - Download
  3. NCERT eBook Science Class9th- Download
  4. NCERT eBook Science Class10th- Download

Tuesday, July 30, 2019

CTET 2019 Result: सीटेट परीक्षा का रिजल्ट जारी, 3.52 लाख अभ्यर्थी हुए पास

CTET 2019 Result: "सेंट्रल टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) के परिणाम (CTET Result 2019) रिकॉर्ड 23 दिन में जारी कर दिए गए ,29.22 लाख अभ्यर्थियों ने पंजीकरण करवाया था जिसमे 23.77 लाख ने परीक्षा दी तथा 3.52 लाख अभ्यर्थी उत्तीर्ण हुए. परीक्षा 114 शहरों में हुई थी." उम्मीदवार अपना रिजल्ट  ऑफिशियल वेबसाइट cbseresults.nic.in पर चेक कर सकते है ।
CTET 2019 Result डायरेक्ट लिंक से करें चेक करें

CTET Result 



CTET Result 2019 ऐसे कर पाएंगे चेक

स्टेप 1: उम्मीदवार सीटेट का रिजल्ट चेक करने के लिए सीबीएसई की वेबसाइट cbseresults.nic.in पर जाएं.
स्टेप 2: वेबसाइट के होमपेज पर दिए गए CENTRAL TEACHER ELIGIBILITY TEST (CTET) JULY - 2019  के लिंक पर क्लिक करें.
स्टेप 3: अब रोल नंबर सबमिट करें.
स्टेप 4: आपका रिजल्ट आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा.
स्टेप 5: आप भविष्य के लिए अपने रिजल्ट का प्रिंट ऑउट ले सकते हैं. 

Monday, July 29, 2019

GK Tricks – वेद , उपवेद और वेदांगों के नाम

वेद , उपवेद और वेदांगों के नाम इस ट्रिक की सहायता से आप आसानी से याद रख सकते है।

वेदों के नाम 

वेदों की संख्या 4 है।

GK Tricks - सारी आयु
ट्रिकी शब्दवेद
सासामवेद
रीऋग्वेद
अथर्ववेद
युयजुर्वेद

उपवेदों के नाम 

उपवेदों की संख्या 4 है , इस ट्रिक के माध्यम से आप सभी उपवेदों के नाम आसानी से याद रख सकते है !

GK Tricks - गंध सी आय
ट्रिकी वर्डउपवेद
गंगन्धर्ववेद
धनुर्वेद
सीस्थापत्यवेद
आयआयुर्वेद

वेदांगों के नाम

वेदों को समझने के लिये छ: वेदांगों की रचना हुई ! इस ट्रिक के माध्यम से आप सभी वेदांगों के नाम आसानी से याद रख सकते है !
GK Tricks - निशि कब जाय छ:
ट्रिकी वर्डवेदांग
निनिरुक्त
शिशिक्षा
कल्प
व्याकरण
जायज्योतिष
छ:छद
 दोस्तो आपको इन सभी वेद उपवेद व वेदांगों के नाम आसानी से याद हो गये होंगे , आप इन्हें कभी नहीं भूलेंगे !

Wednesday, July 24, 2019

CHILD DEVELOPMENT AND PEDAGOGY SOLVED PAPER - CTET 2019

CHILD DEVELOPMENT AND PEDAGOGY SOLVED PAPER - CTET 2019
प्रश्न 1 :- जीन पियाजे के अनुसार बच्चे –
(1) ज्ञान को सक्रिय रूप से सरंचित करते हैं, जैसे-जैसे वे दुनिया में व्यवहार कौशल प्रयोग करते हैं तथा अन्वेषण करते हैं।
(2) प्रेक्षणात्मक अधिगम की प्रक्रिया का अनुसरण करते हैं हुए दूसरों का अवलोकन करके सीखते हैं।
(3) को अधिपन अनुक्रिया संबंधो के सावधानी पूर्वक नियंत्रण के द्वारा एक विशेष तरीके से व्यवहार करने के लिए अनुबंधित किया जा सकता है।
(4) को पुरस्कार एवं दंड के सिद्धांतों का प्रयोग करते हुए विशेष तरीके से व्यवहार करना एवं सीखना सिखाया जा सकता है।
उत्तर :- (1) ज्ञान को सक्रिय रूप से सरंचित करते हैं, जैसे-जैसे वे दुनिया में व्यवहार कौशल प्रयोग करते हैं तथा अन्वेषण करते हैं।
प्रश्न 2 :- चालक विकास की दर में व्यक्तिगत विविधता होती हैं फिर बालक विकास का क्रम……… से……… तक होता है।
(1) शीर्षगामी ; अधोगामी
(2) अधोगामी ; शीर्षगामी
(3) अपरिष्कृत ( स्थूल ) चालक विकास ; परिष्कृत (शुक्ष्म) चालक विकास
(4) परिष्कृत (शुक्ष्म) चालक विकास ;अपरिष्कृत ( स्थूल ) चालक विकास
उत्तर :- (3) अपरिष्कृत ( स्थूल ) चालक विकास ; परिष्कृत (शुक्ष्म) चालक विकास ।
प्रश्न 3 :- वह अवधि जो व्यस्यक अवस्था के संक्रमण की पहल करती है, उसे क्या कहते हैं
(1)किशोरावस्था
(2) मध्य बाल्यावस्था
(3) बाल्यावस्था की समाप्ति
(4)पूर्व क्रियात्मक अवधि
उत्तर :- (1) किशोरावस्था कहते हैं ।
प्रश्न 4 :- एक बच्चा तर्क प्रस्तुत करता है कि हिंद को दवाई की चोरी नहीं करनी चाहिए ( वह दवाई जो उसकी पत्नी की जान बचाने के लिए जरूरी है ), क्योंकि यदि वह ऐसा करता है, तो वह पकड़ा जाएगा और जेल भेज दिया जाएगा । कोहलबर्ग के अनुसार वह बच्चा नैतिक समझ के किस अवस्था के अंतर्गत आता है।
(1) यंत्री उद्देश्य अभिविन्यास
(2) सामाजिक क्रम नियंत्रक अभिविन्यास
(3) दंड एवं आज्ञा पालक अभिविन्यास
(4) सार्वभौम नैतिक सिद्धांत अभिविन्यास
उत्तर :- (3) कोहलबर्ग के अनुसार वह बच्चा नैतिक समझ के दंड एवं आज्ञा पालक अभिविन्यास अवस्था के अंतर्गत आता है ।
प्रश्न 5 :- मौखिक संवाद जो बच्चे अपने आप से करते हैं उन्हें लेव वाइगोत्सकी क्या कहते हैं।
(1) अहमकेंद्रित वार्ता
(2) व्यक्तिगत वार्ता
(3) भ्रांत वार्ता
(4) समस्यात्मक वार्ता
उत्तर :- (2) मौखिक संवाद जो बच्चे अपने आप से करते हैं उन्हें लेव वाइगोत्सकी व्यक्तिगत वार्ता कहता हैं ।
प्रश्न 6 :- खिलौने, पहनावे की वस्तुएं, घरेलू सामग्रियां, व्यवसाय एवं रंगों की विशिष्ट लिंग के साथ संबंधित करना क्या प्रदर्शित करता है।
(1) विकसित जेंडर पहचान
(2) जेंडर रूढ़िवादिता
(3) जेंडर सिद्धांत
(4) जेंडर प्रसंगिकता
उत्तर :- (2) जनरल रूढ़िवादिता को प्रदर्शित करता है।
प्रश्न 7 :- एक प्रारंभिक कक्षा कक्ष में एक बच्ची अपने साथ जो अनुभव लाती है।
(1) उन्हें अस्वीकार करना चाहिए
(2) उसकी उपेक्षा करनी चाहिए
(3) उन पर ध्यान नहीं देना चाहिए
(4) उन्हें शामिल कर उनका संचय करना चाहिए। 
उत्तर :- (4) एक प्रारंभ कक्षा कक्ष में एक बच्ची अपने साथ जो अनुभव लाती है शिक्षक को उन्हें कक्षा कक्ष में शामिल करना चाहिए।
प्रश्न 8 :- एक शिक्षक को चाहिए कि-
(1) वह विद्यार्थियों के बीच तुलना को अधिकतम करें।
(2) वह विशेष संस्कृतियों / समुदाय के बच्चों को बढ़ावा दें।
(3) वह विद्यार्थियों के बीच सांस्कृतिक विभिनता तथा विविधताओं की अनदेखी करें।
(4) यह संप्रेषित करें कि वह कक्षा कक्ष में सभी संस्कृतियों का सम्मान करती है एवं महत्व देती है। 
उत्तर :- (4) यह संप्रेषित करें कि वह कक्षा कक्ष में सभी संस्कृतियों का सम्मान करती है एवं महत्व देती है इस प्रक्रिया से बालकों में समानता का बोध होता उत्पन्न होता है।
प्रश्न 9 :- निम्नलिखित संरचनाओं में से शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 किस की वकालत करता है।
(1) एकीकृत शिक्षा
(2) समावेशी शिक्षा
(3) पृथक्करण की शिक्षा
(4) मुख्यधारा शिक्षण
उत्तर : – (2) शिक्षा का अधिकार अधिनियम, 2009 समावेशी शिक्षा पर बल देता हैं ।
प्रश्न 10 :- ……. यह विचारधारा है कि सभी बच्चों को एक नियमित विद्यालय व्यवस्था में समान शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार हो।
(1) समावेशी शिक्षा
(2) मुख्यधारा शिक्षा
(3) विशेष शिक्षा
(4) बहुल सांस्कृतिक शिक्षा
उत्तर :-(1) समावेशी शिक्षा सभी बच्चों को एक नियमित विद्यालय व्यवस्था में समान शिक्षा देने की व्यवस्था की जाती है।
प्रश्न 11:- बच्चे प्रभावी रूप से सीखते हैं जब –
(1) शिक्षक कक्षा में होने वाली सभी घटनाओं व बच्चों को पूर्ण रूप से नियंत्रित करता है।
(2) वे पाठ्य पुस्तक में दिए गए तथ्य को याद करते हैं।
(3) वह विभिन्न गतिविधियों एवं कार्य में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।
(4) वे श्यामपट्ट पर अध्यापक के द्वारा लिखी गए उत्तरों की नकल करते हैं। 
उत्तर :- (3) बच्चे प्रभावी रूप से सीखते हैं जब वे विभिन्न गतिविधियों एवं कार्य में सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।
प्रश्न 12:- बच्चों को कक्षा में प्रश्न –
(1) पूछने के लिए प्रेरित करना चाहिए।
(2) पूछने के लिए हतोत्साहित करना चाहिए।
(3) पूछने की अनुमति नहीं देनी चाहिए।
(4) पूछने से रोकना चाहिए। 
उत्तर :-(1) बच्चों को कक्षा में प्रश्न पूछने के लिए निरंतर प्रेरित करना चाहिए।
प्रश्न 13 :- निम्नलिखित में से कौन सी एक मुख्य प्रक्रिया नहीं है जिसके द्वारा सार्थक अधिगम गठित होता है?
(1) कंठस्थ करण एवं स्मरण करना
(2) पुनरावृति एवं अभ्यास
(3) निर्देश एवं संचालन
(4) अन्वेषण एवं पारस्परिक क्रिया
उत्तर :- (1) कंठस्थ करण एवं स्मरण करना से अधिगम प्रक्रिया बाधित होती है।
प्रश्न 14 :- जब शिक्षक को विद्यार्थी एवं उनकी योग्यता के बारे में सकारात्मक विश्वास होता है तब विद्यार्थी-
(1) सीखने के लिए उत्सुक एवं प्रेरित रहते हैं।
(2) निश्चिंत हो जाते हैं तथा सीखने के लिए किसी भी तरह का प्रयास करना बंद कर देते हैं।
(3) किसी भी रूप में प्रभावित नहीं होते हैं।
(4) का उत्साह भंग हो जाता है तथा हुए दबाव में आ जाते हैं। 
उत्तर :- (1) जब शिक्षक को विद्यार्थियों एवं उनकी योग्यताओं के बारे में सकारात्मक विश्वास होता है तब बालक सीखने के लिए उत्सुक तथा प्रेरित हो जाते हैं।
प्रश्न 15 :- बच्चों की गलतियां —-
(1) प्रदर्शित करती है कि बच्चे कितने लापरवाह है।
(2) बार-बार अभ्यास करने के लिए कह कर तुरंत सुधार देनी चाहिए।
(3) अधिगम का एक भाग है तथा उनके विचारों में एक अंतर्दृष्टि होती है।
(4) शिक्षण अधिगम प्रक्रिया में महत्वहीन है। 
उत्तर : –(3) बच्चों की गलतियां अधिगम का एक भाग है तथा उनके विचारों में एक अंतर्दृष्टि होती है शिक्षक को इसे स्वीकार करना चाहिए।
प्रश्न 16 :- मूल्यांकन को………..
(1) एक अलग गतिविधि के रूप में लेना चाहिए।
(2) शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का एक भाग होना चाहिए।
(3) केवल नंबरों के संदर्भ में करना चाहिए।
(4) वस्तुनिष्ठ प्रकार की लिखित कार्य पर आधारित होना चाहिए। 
उत्तर :-(2) मूल्यांकन को शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का एक भाग होना चाहिए।
प्रश्न 17 :- संरचनात्मक दृष्टिकोण के अनुसार, अधिगम…….. है।
(1)एक सक्रिय एवं सामाजिक प्रक्रिया
(2) एक निष्क्रिय एवं व्यक्तिगत प्रक्रिया
(3) जानकारी के अर्जन की प्रक्रिया
(4) अनुभव के परिणाम के रूप में व्यवहार में एक परिवर्तन होने की प्रक्रिया 
उत्तर :- (1) एक सक्रिय एवं सामाजिक प्रक्रिया हैं ।
प्रश्न 18 :- नीचे लिखी हुई स्थिति किस सिद्धांत को दर्शाती है।
” जो विद्यार्थी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं, । वह अच्छा महसूस नहीं करते हैं, कि ” पर्याप्त रूप से अच्छे नहीं है । और हतोत्साहित महसूस करते हैं , तब उनमें बिना प्रयास के कार्य को आसानी से छोड़ देने की संभावना है ” ।
(1) संज्ञान एवं संवेग अलग नहीं हैं
(2) संज्ञान और संवेग संबंधित नहीं है
(3) अनुवांशिकता एवं पर्यावरण अलग नहीं है
(4) आनुवंशिकता एवं पर्यावरण संबंधित नहीं है
उत्तर :- (1) संज्ञान एवं संवेग अलग नहीं हैं ।
प्रश्न 19 :- एक शिक्षक बच्चों को प्रभावी रूप से समस्या का समाधान करने में सक्षम बनाने के लिए किस तरह से प्रोत्साहित कर सकती है।
(1) पाठ्यपुस्तक के सभी प्रश्नों को व्यवस्थित तरीके से समाधान लिखकर।
(2) पाठ्य पुस्तक से एक ही प्रकार के प्रश्नों के उत्तर के अभ्यास के लिए उन्हें पर्याप्त मात्रा में अवसर प्रदान करके।
(3) पाठ्य पुस्तक में दी गई सूचनाओं के कंट्री करण करने पर बल देकर।
(4) बच्चों को समस्या के बारे में शहजानुभूत अनुमान लगाने एवं बहु विकल्पों के देखने के लिए प्रोत्साहित करके। 
उत्तर :- (4) बच्चों को समस्या के बारे में शहजानुभूत अनुमान लगाने एवं बहु विकल्पों के देखने के लिए प्रोत्साहित करके।
प्रश्न 20 :- वह विधियाँ जिनके प्रयोग में विद्यार्थियों की स्व पहल और प्रयास शामिल है निम्न में से किसका उदाहरण हैं ।
(1) निगमनात्मक विधि
(2) अधिगमकर्ता केंद्रित अधीगम
(3) परंपरागत विधि
(4) अंतव्यक्तिक बुद्धि ( लर्निंग सेंटर्ड मेथड ) 
उत्तर :- (2) अधिगमकर्ता केंद्रित अधीगम ।
प्रश्न 21 :- निम्नलिखित में से कौन सा पूर्व क्रियात्मक अवस्था काल के बच्चों को विशेषित करता है।
(1) वर्तुल प्रतिक्रिया
(2) लक्षित निर्देशित विभाग
(3) विलंबित अनुकरणविलंबित
(4) विचारों की अनुत्क्रमणीयता 
उत्तर :- (4) विचारों की अनुत्क्रमणीयता ।
प्रश्न 22 :- लेव वाइगोत्सकी के अनुसार अधिगम।
(1) एक सामाजिक गतिविधि है
(2) एक व्यक्तिगत गतिविधि है
(3) एक निष्क्रिय गतिविधि है
(4) एक अनुबंधित गतिविधि है
उत्तर : – (1) लेव वाइगोत्सकी के अनुसार अधिगम एक सामाजिक गतिविधि है।
प्रश्न 23 :- प्रगतिशील शिक्षा मे बच्चों को किस तरह देखा जाता है?
(1) छोटे वयस्कों के रूप में
(2) निष्क्रिय अनु कारकों के रूप में
(3) सक्रिय अन्वेषकों के रूप में
(4) खाली स्लेट के रूप में 
उत्तर :- (3) सक्रिय अन्वेषकों के रूप में देखता हैं ।
प्रश्न 24 :- बच्चों और उनके अधिगम के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन सा सही है।
(1) सभी बच्चे सीखने के लिए स्वभाविक रूप से प्रेरित होते हैं और सीखने में सक्षम है
(2) बच्चों को अधिगम हेतु प्रेरित करने के लिए उन्हें प्रेरित एवं दंडित करना होता है
(3) बच्चों की सामाजिक – आर्थिक पृष्टभूमि उनकी प्रेरणा एवं अधिगम अक्षमता को निर्धारित अवश्य व्यक्त करती है
(4) बच्चों को सीखने के लिए अभिप्रेरणा तथा सीखने के लिए उनकी क्षमता केवल अनुवांशिकता के द्वारा पूर्व निर्धारित है 
उत्तर :- (1) सभी बच्चे सीखने के लिए स्वभाविक रूप से प्रेरित होते हैं और सीखने में सक्षम है।
प्रश्न 25 :- निम्नलिखित में से कौन प्राथमिक सामाजिकरण का माध्यम होता है
(1) परिवार
(2) विद्यालय
(3) सरकार
(4) मिडिया
उत्तर :- (1) परिवार प्राथमिक समाजीकरण का माध्यम है।
प्रश्न 26 :- जेंडर-
(1) एक जैविक निर्धारक है
(2) एक मनोवैज्ञानिक सत्ता है
(3) एक आर्थिक अवधारणा है
(4) एक सामाजिक संरचना है 
उत्तर :- (4) जेंडर एक सामाजिक संरचना है।
प्रश्न 27 :- जीन पियाजे के सिद्धांत का प्रमुख प्रस्ताव है कि,
(1) बच्चों की सोच वयस्कों से भिन्न होती है
(2) बच्चों की सोच वयस्कों से बेहतर होती है
(3) बच्चों की सोच गुणात्मक रूप में वयस्कों से भिन्न होती है
(4) बच्चों की सोच मात्रात्मक रूप मे वयस्कों से भिन्न होती हैं 
उत्तर :- (3) बच्चों की सोच गुणात्मक रूप में वयस्कों से भिन्न होती है।
प्रश्न 28 :- बुद्धि के बारे में निम्नलिखित कथनों में से कौन सा सही है।
(1) बुद्धि अभिसारी रूप से सोचने की योग्यता है।
(2) बुद्धि एक अनुवांशिक विशेषक है जिसमे मानसिक गतिविधि जैसे स्मरण एवं तर्क शामिल होती है।
(3) बुद्धि बहुआयामी है जिसे बुद्धि परीक्षणों के द्वारा पूर्ण रूप से परिमेय न की जाने वाली कई योग्यता शामिल है।
(4) बुद्धि अनुभव के परिणाम के रूप में व्यवहार में एक अपेक्षाकृत स्थाई परिवर्तन है। 
उत्तर :- (3) बुद्धि बहुआयामी है जिसे बुद्धि परीक्षणों के द्वारा पूर्ण रूप से परिमेय न की जाने वाली कई योग्यता शामिल है।
प्रश्न 29 :- निम्नलिखित में से कौन विकास की व्यापक आयामों की सही पहचान करता है।
(1) शारीरिक, संज्ञानात्मक, सामाजिक और संवेगात्मक
(2) संवेगात्मक, बौद्धिक, आध्यात्मिक एवं स्व
(3) सामाजिक, शारीरिक, व्यक्तित्व, स्व
(4) शारीरिक, व्यक्तित्व, आध्यात्मिक एवं संवेगात्मक
उत्तर :- (1)  शारीरिक, संज्ञानात्मक, सामाजिक और संवेगात्मक ।